Wednesday, December 9, 2009

दिल आज फिर भूला कि वो पराये हैं....


कितनी ही बार मैंने ख़्वाब जलाये हैं
हाल-ए-दिल पूछने वो लौट आये हैं

उन फिजाओं की रौनक अब क्या कहिये
जहाँ प्यार के नगमें हमने गुनगुनाये हैं

सदियों की थी दूरियाँ हम नाप आये हैं
नजदीकियों के भी वहाँ पर चंद साए हैं

ज़ख़्म की उम्मीद थी गुलों से उलझ गए
इन फूलों ने फिर मेरे हौसले बढ़ाये हैं

दिल टूटा था और नुमाइश लग गयी
आँखों ने फ़िर वही कहकहे लगाये हैं

नज़रें झुकीं 'अदा' की हया से भरीं हुईं
दिल आज फिर भूला कि वो पराये हैं

25 comments:

  1. दिल टूटा था और बस नुमाइश लग गयी
    आँखों ने फ़िर वही कहकहे लगाये हैं
    ग़ज़ल क़ाबिले-तारीफ़ है। दिल के साथ-साथ दिमाग़ में भी जगह बनाती है।

    ReplyDelete
  2. झुकी झुकी सी नज़र बेक़रार है कि नहीं
    दबा दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  3. मन कहता, है ये अन्दाजे बयाँ और
    क्या और कहूँ?.. शब्द हुए पराये हैं।

    ReplyDelete
  4. ज़ख्म की उम्मीद में गुलों से टकरा गए
    इन फूलों ने फिर मेरे हौसले बढ़ाये हैं

    अच्छे भाव को प्रस्तुत करती पंक्तियाँ बहन मंजूषा। एक कोशिश मेरी तरफ से भी-

    गुलों से जख्म मिल जाये यही गुल की परेशानी
    गले मिलकर गुलों ने जोर से आँसू बहाये हैं

    शुभकामना

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. दूसरी पंक्ति को ऐसे भी कर के देखिए

    और क्या कहूँ, शब्द हुए पराये हैं।

    ReplyDelete
  6. नज़रें झुकीं 'अदा' की हया से भरीं हुईं
    दिल आज फिर भूला कि वो पराये हैं

    maktaa sabse shaandaar hai ada ji....
    baaki ghazal ki baat baad mein karte hain....

    manu' betakhllus'

    ReplyDelete
  7. "दिल आज फिर भूला कि वो पराये हैं"

    इतने अच्छे क्यों लगते हो किन सोचों में गुम रहते हो ...

    ReplyDelete
  8. सदियों की थी वो दूरी हम नाप आये हैं
    वहाँ नजदीकियों के भी मगर चंद साए हैं

    ज़ख्म की उम्मीद में गुलों से टकरा गए
    इन फूलों ने फिर मेरे हौसले बढ़ाये हैं
    बहुत खूब, चित्र भी अति सुन्दर संलग्न किया है !

    ReplyDelete
  9. आपकी आँखों के कहकहे सलामत रहे
    फिजाओं की रौनक मुबारक रहे
    फूलों के हौसले , प्यार के नगमे
    हर दिन हर पल साथ रहे ....
    बहुत शुभकामनायें ....!!

    ReplyDelete
  10. बहुत बढिया गजल है।बधाई।

    ReplyDelete
  11. नज़रें झुकीं 'अदा' की हया से भरीं हुईं
    दिल आज फिर भूला कि वो पराये हैं

    IN PANKTIYON KI KYA KAHUN....WAAH !! PREM ME SWABHAVIK HI YAH AWASTHA HUA KARTI HAI KI SAAMNE AANE PAR SAARE GILE SHIKVE APNE AAP DHUL JAYA KARTE HAIN....IS AWASTHA KA AAPNE ITNA MOHAK AUR SUNDAR CHITRAN KIYA HAI KI BAS.....

    ReplyDelete
  12. कितनी ही बार मैंने ख़्वाब जलाये हैं
    हाल-ए-दिल पूछने वो वापस आये हैं

    वाह! क्या बात कही है अदा जी ! बहुत खूब.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. दिल टूटा था और नुमाइश लग गयी
    आँखों ने फ़िर वही कहकहे लगाये हैं
    sundar gazal kahi hai...hamesha ki tarah

    ReplyDelete
  15. etna badhiya gajal kaise likh letin hain aap ki bas sochte rah jaate hain kya bolein...

    ReplyDelete
  16. सुन्दर अभिव्यक्ति--

    ’प्रियतम से जब हुआ सामना,
    मन पिघला नवनीत होगया.
    झूले बाहों के झूले जब,
    उपालम्भ सन्गीत होगया ॥’

    ReplyDelete
  17. अजीब दास्ताँ है ये
    कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
    ये मंजिलें हैं कौन सी
    न वो समझ सके न हम...

    sundar gazal ...

    ReplyDelete
  18. Sundar ghazal hai 'ada' ji.
    badhai !!

    ReplyDelete
  19. ज़ख़्म की उम्मीद थी गुलों से उलझ गए
    इन फूलों ने फिर मेरे हौसले बढ़ाये हैं

    दिल टूटा था और नुमाइश लग गयी
    आँखों ने फ़िर वही कहकहे लगाये हैं

    wah, bahut khoob ghazal kahi hai...badhai

    ReplyDelete
  20. नज़रें झुकीं 'अदा' की हया से भरीं हुईं
    दिल आज फिर भूला कि वो पराये हैं..

    बस बस और कुछ बताने की जरुरत नहीं है.
    कमाल करते हैं ये शे'र भी न...मानो पूरी दास्ताँ कह दी.

    ReplyDelete
  21. हालाँकि गजल पुरानी है, पर जब पढा, तो बिना तारीफ के रह न सके।
    बधाई स्वीकारें।
    ------------------
    सलीम खान का हृदय परिवर्तन हो चुका है।
    नारी मुक्ति, अंध विश्वास, धर्म और विज्ञान।

    ReplyDelete
  22. आपकी कुछ कवितायेँ श्रिगारिकता के नए कल्ले -कोपलें उगा देती हैं -अब इसी कविता को ही देखिये न !

    ReplyDelete
  23. कम शब्दों में बहुत सुन्दर कविता।
    बहुत सुन्दर रचना । आभार
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    Sanjay kumar
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete