Tuesday, December 15, 2009

चले जैसे हवाएं सनन सनन ....तो फ़िर रिमझिम क्यूँ न गिरे सावन.....



फ़िल्म : मैं हूँ ना
संगीतकार : अनु मल्लिक
गीतकार : जावेद अख्तर
गायक : के के और वसुंधरा दास

लेकिन आज सुनिए इसी गीत को प्रज्ञा शैल और और उसके पापा की आवाज़ में...
प्रज्ञा हमारी बिटिया है और आपका आशीर्वाद चाहिए उसे ...



whats up?

चलें जैसे हवायें सनन सनन
उड़ें जैसे परिंदे गगन गगन
जायें तितलियां जैसे चमन चमन
यूंही घूमूं मैं भी मगन मगन

मैं दीवानी दिल की रानी ग़म से अन्जानी
कब डरती हूँ वो करती हूं जो है ठानी

चलें जैसे हवायें सनन सनन
उड़ें जैसे परिंदे गगन गगन

whats up?
say what?

कोई रोके कोई आये
कितना भी मुझको समझाए
मैं ना सुनूंगी कभी
अपनी ही धुन में रहती हूँ
मैं पगली हूँ मैं जिद्दी हूँ
कह्ते हैं ये तो सभी
कोई नहीं जाना
के अरमान क्या है मेरा

चलें जैसे हवायें सनन सनन
उड़ें जैसे परिंदे गगन गगन
जायें तितलियां जैसे चमन चमन
यूंही घूमूं मैं भी मगन मगन

मैं दीवानी दिल की रानी ग़म से अन्जानी
कब डरती हूँ वो करती हूं जो है ठानी

चलें जैसे हवायें सनन सनन
उड़ें जैसे परिंदे गगन गगन

आये हसीना ये तो आये
मुझ को दिखाने अपनी अदायें
मैं भी कुछ कम नहीं, यह
आंखों में आंखें जो डालूं
दिल मैं चुरालूं होश चुरालूं
कोई हो कितना हसीं
मेरा हो गया वो
जो इक बार मुझ से मिला

चलें जैसे हवायें सनन सनन
उड़ें जैसे परिंदे गगन गगन
जायें भँवरे जैसे चमन चमन
यूंही घूमूं मैं भी मगन मगन

मैं दीवाना मैं अन्जाना ग़म से बेगाना
हूं आवारा लेकिन प्यारा सब ने माना

चलें जैसे हवायें सनन सनन
उड़ें जैसे परिंदे गगन गगन
जायें भँवरे जैसे चमन चमन
यूंही घूमूं मैं भी मगन मगन

चलें जैसे हवायें सनन सनन
उड़ें जैसे परिंदे गगन गगन





फ़िल्म : मंज़िल
संगीतकार : राहुल देव बर्मन
गीतकार : योगेश
आवाज़ : लता

लेकिन आज सुनिए स्वप्न मंजूषा 'अदा' की आवाज़ में यही गीत..

रिमझिम गिरे सावन
सुलग सुलग जाए मन्
भीगे आज इस मौसम में
लगी कैसी ये अगन

रिमझिम गिरे सावन
सुलग सुलग जाए मन्
भीगे आज इस मौसम में
लगी कैसी ये अगन
रिमझिम गिरे सावन

पहले भी यूँ तो बरसे थे बदल
पहले भी यूँ तो भीगा था आँचल
अबके बरस क्यूँ सजन
सुलग सुलग जाए मन
भीगे आज इस मौसम में
लगी कैसी ये अगन
रिमझिम गिरे सावन

इस बार मौसम दहका हुआ है
इस बार सावान बहका हुआ है
जाने पीके चली क्या पवन
सुलग सुलग जाए मन
भीगे आज इस मौसम में
लगी कैसी ये अगन
रिमझिम गिरे सावन

रिमझिम गिरे सावन
सुलग सुलग जाए मन्
भीगे आज इस मौसम में
लगी कैसी ये अगन
रिमझिम गिरे सावन



23 comments:

  1. वाह पूरा परिवार ही संगीत साधना में रत ! प्रज्ञा की आवाज भी बहुत अच्छी है ! स्नेहाशीष !

    ReplyDelete
  2. वाह आज तो आप दोनों मां बिटिया ने खूब समा बांधा जी ॥ प्रज्ञा बिटिया की आवाज भी बहुत अच्छी है और नए गानों पर तो मुझे लगता है कि कमाल पकड है उसकी ॥ आप दोनों को शुभकामनाएं ॥
    अजय कुमार झा

    ReplyDelete
  3. प्रज्ञा की आवाज़ कमाल है...आखिर हो भी क्यों न...बेमिसाल माता-पिता की बेमिसाल बिटिया जो ठहरी...सुबह की शुरुआत बड़ी मधुर रही...
    कह नहीं सकता कि तीनों में कौन अव्वल है...वैसे माता-पिता की तो संतान के आगे हार में भी जीत होती है...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  4. सुबह सुबह आनन्द आ गया संगीत का! प्रज्ञा बिटिया भी बहुत अच्छा गाती है।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर गीतों की सुन्दर प्रस्तुति ! संतुष्टि का अनुमान लगा रहा हूँ आपके मन की ! प्रज्ञा की आवाज भी बहुत मधुर है ।

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत आवाज है प्रज्ञा बिटिया की. बहुत आशीष और शुभकामनाएं

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. क्या बात है क्या बात है , भाई अब बहुत जलन हो रही है सभी कलाकार एक ही घर में हाँ , ये तो नाईसांफी है । आवाज के तो क्या कहने बहुत खूब , अभी ज्यादा नहीं कहूँगा बाद आता हूँ, फीर बात होती है ।

    ReplyDelete
  8. bahut hi mithias bhari hai pragya ke aawaz mein.sunder geet ki madhur prastuti,bahut badhai.

    ReplyDelete
  9. बढ़िया प्रस्तुति।बधाई।

    ReplyDelete
  10. प्रज्ञा की आवाज में भी खनक है.
    गीत को पुरे उत्साह से गाया है.

    इस कमेन्ट के साथ मेरी शुभकामनाएं हैं !!

    ReplyDelete
  11. पहले दोनो गीत अलग अलग सुने फिर दोनो एक साथ ( अजीब सा प्रयोग ) फिर..रिमझिम गिरे सावन .. इतनी देर तक कि आखिर में मैं डूब गया ...

    ReplyDelete
  12. wah jese ma -pita vesi hi beti..bahut hi sunder keep it up pragya.

    ReplyDelete
  13. Maa Saraswati ji ka bharpoor
    aashirwaad....aur aap dono ka maarg-darshan....natijaa...
    Pragya ki bahut hi meethi awaaz....
    lekin ek baat bahut sach kehnaa chaahungaa...Pragya ki aawaaz aap se kaheeN zyaada madhur hai...aur use swaroN ki poori pakad hai... nichle notes par to poora pehra hai...bs cut-notes aur 'meendh' mei farq par zra aur dhyaan de..
    meri taraf se dheroN pyaar aur aashirwaad !!

    ReplyDelete
  14. ईश्वर की असीम कृपा है कि हमारी नन्ही परी भी अपने स्वर में इतना माधुर्य लिए है । आप दोनों के संस्कार इस प्यारी बिटिया को मिले हैं । बहुत बहुत स्नेह और आशीर्वाद.......

    ReplyDelete
  15. Hi Ada...
    Its lovely to see Pragya is also singing.....blessed wd a melodious voice !!

    As mother as daughter !!

    Stay blessed Dear !!

    ReplyDelete
  16. ada ji,
    abhi geet sunnaa aur apnii Id se comment denaa badaa mushkil hai...

    bas bitiyaa ko dekhaa to comment karnaa jaroori samjhaa..
    baaki baad mein...

    manu...

    ReplyDelete
  17. क्या बात है ...पूरा परिवार ही संगीत की सेवा में हम तो धन्य हुए आपका सानिध्य पा कर ...!!

    ReplyDelete
  18. Chalein jaise hawaien is awesome.

    With loads of love to Pragya.

    ReplyDelete
  19. आपका संगीत सुनकर मन गद गद हो गया | संयोग से ऐसी स्वस्थ संगीत गाने वालो का अकाल सो हो गया है | बहुत अच्छा लगा आप ऐसे ही गाते रहिये हमारी सुभकामनाये आपके साथ है |
    आमोद कुमार

    ReplyDelete