Thursday, December 17, 2009

मैं ऊँचाइयों का शिकार हूँ


मुझे ख़ुद पे क्यूँ न गुरूर हो
मैं एक मुश्ते गुबार हूँ

समझूँगा मैं तेरी बात क्या
पत्थर की इक मैं दीवार हूँ

आया हूँ बच के ख़ुशी से मैं
मैं सोगो ग़म का बज़ार हूँ

उड़ने की है किसे जुस्तजू
मैं ऊँचाइयों का शिकार हूँ

मुझसे मिलीं रहमतें खुल के
और ज़ुल्मतों का मैं प्यार हूँ

हर दर्द का हूँ मैं देनदार
और ग़मों का मैं खरीददार हूँ

इतराऊं खुद पे न क्यूँ 'अदा'
पर कैसे चलूँ ? लाचार हूँ

29 comments:

  1. उड़ने की है किसे जुस्तजू
    मैं ऊँचाइयों का शिकार हूँ
    ऊचाईया शिकार करती है. कमोबेश हर कोई इनके गिरफ्त मे आने के लिये अभिशप्त है.
    बेहतरीन भाव

    ReplyDelete
  2. आया हूँ बच के ख़ुशी से मैं
    मैं सोगो ग़म का बज़ार हूँ

    -बहुत उम्दा है जी!!

    ReplyDelete
  3. मुझसे मिलीं रहमतें खुल के
    और ज़ुल्मतों का मैं प्यार हूँ

    वेहतरीन गजल के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  4. समझूँगा मैं तेरी बात क्या
    पत्थर की इक मैं दीवार हूँ ...

    समझी है हर बात उस पत्थर की दीवार ने...किसी ने झुकर हाले से कानों में कहा तो होता ...

    इतराऊं खुद पे न क्यूँ 'अदा'
    पर कैसे चलूँ ? लाचार हूँ...

    खूब इतरायें ...
    और हम आपके इतराने से इतराएँ ....!!

    ReplyDelete
  5. भावों का बाजार है यह गजल !

    ReplyDelete
  6. अदा जी, बहुत अच्छा व्यंग्य किया है.

    ReplyDelete
  7. हक से रुक मेरे भीतर ,
    हां मैं तेरा संसार हूं ॥

    जब तलक कयामत न हो ,
    और उसके बाद भी तैयार हूं ॥

    यदि तेरी इबादत है गुनाह तो,
    यकीनन मैं गुनाहगार हूं ॥

    देखिए आपने मुझे फ़िर बहका दिया न .....आपके लिखे के पीछे पीछे ये कलम दौडने लगती है

    ReplyDelete
  8. उड़ने की है किसे जुस्तजू
    मैं ऊँचाइयों का शिकार हूँ

    सुन्दर भाव की पंक्तियाँ बहन मंजूषा।

    मेरी जुस्तजू में है जिन्दगी
    ऊँचाइयों का आधार हूँ

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman. blogspot. com

    ReplyDelete
  9. "उड़ने की है किसे जुस्तजू"

    अपनी धुन में रहता हूँ मैं भी तेरे जैसा हूँ
    ओ पिछली रुत के साथी अब के बरस मैं तनहा हूँ

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब बहुत खूब।
    हर शब्द गया भाव में डूब। बहुत खूब बहुत खूब।

    कैमरॉन की हसीं दुनिया 'अवतार'

    ReplyDelete
  11. मुझसे मिलीं रहमतें खुल के
    और ज़ुल्मतों का मैं प्यार हूँ

    हर दर्द का हूँ मैं देनदार
    और ग़मों का खरीददार हूँ

    बहुत खूब, बेहतरीन !

    ReplyDelete
  12. मुझसे मिलीं रहमतें खुल के
    और ज़ुल्मतों का मैं प्यार हूँ


    बेहद खूबसूरत.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. उड़ने की है किसे जुस्तजू
    मैं ऊँचाइयों का शिकार हूँ


    हर दर्द का हूँ मैं देनदार
    और ग़मों का खरीददार हूँ

    बहुत प्यारी ग़ज़ल है......ये शेर मन को छू गए....बधाई

    ReplyDelete
  14. ye sher to lazawab hai:
    "उड़ने की है किसे जुस्तजू
    मैं ऊँचाइयों का शिकार हूँ "

    par Poori ghazal hi acchi hai,

    Kai baar keh chuka hoon Aur kai baar keh sakta hoon.


    For you Thousand Times And Over.

    ReplyDelete
  15. सुंदर और प्यारी सी रचना..!

    ReplyDelete
  16. '' इतराऊं खुद पे न क्यूँ 'अदा'
    पर कैसे चलूँ ? लाचार हूँ ''
    ........... बस इसी बीच से जीवन खींच लीजिये ...

    ReplyDelete
  17. आया हूँ बच के ख़ुशी से मैं
    मैं सोगो ग़म का बज़ार हूँ

    उड़ने की है किसे जुस्तजू
    मैं ऊँचाइयों का शिकार हूँ
    बहुत खूब बधाई

    ReplyDelete
  18. हर दर्द का हूँ मैं देनदार
    और ग़मों का खरीददार हूँ
    अच्छे विचार।

    ReplyDelete
  19. हर दर्द का हूँ मैं देनदार
    और ग़मों का खरीददार हूँ
    bahut hi sundar gazal.

    ReplyDelete
  20. उड़ने की है किसे जुस्तजू
    मैं ऊँचाइयों का शिकार हूँ

    kya baat kahi hai ada ji ! bahut badhiya

    ReplyDelete
  21. समझूँगा मैं तेरी बात क्या ...
    बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  22. हे प्रभु, मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
    कि मैं गैरों को गले लगा न सकूं...
    - अटल बिहारी वाजपेयी

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  23. बड़े जज्बे से भरी है,ग़ज़ल...बहुत खूब

    ReplyDelete
  24. समझूँगा मैं तेरी बात क्या
    पत्थर की इक मैं दीवार हूँ

    आया हूँ बच के ख़ुशी से मैं
    मैं सोगो ग़म का बज़ार हूँ

    मुझसे मिलीं रहमतें खुल के
    और ज़ुल्मतों का मैं प्यार हूँ

    waah hatts off.apki kalam ka jadu sidha dil me utar raha hai.bahut acchhi gazel.badhayi.

    ReplyDelete
  25. गजल पढ़ी
    कुछ तासीर ऐसी है की दिल को भा गयी !
    कई शेर कीमती बन पड़े हैं !
    समझूँगा मैं तेरी बात क्या
    पत्थर की इक मैं दीवार हूँ

    उड़ने की है किसे जुस्तजू
    मैं ऊँचाइयों का शिकार हूँ

    मुझसे मिलीं रहमतें खुल के
    और ज़ुल्मतों का मैं प्यार हूँ


    कुल मिलाकर एक बेहतरीन गजल सामने आई है !
    अच्छा ये भी लगा की आपको उर्दू की समझ खूब है !

    थोड़ी बेचैनी मुझे इस शेर से हुयी :
    हर दर्द का हूँ मैं देनदार
    और ग़मों का मैं खरीददार हूँ

    तजुर्बा कहता है कि दर्द देने वाला ग़म का खरीददार नहीं होता :)

    नए गाने का इन्तजार है
    बहुत बहुत शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  26. समझूँगा मैं तेरी बात क्या
    पत्थर की इक मैं दीवार हूँ
    khair aapke liye kya kahoon ,shabd hi nahi hamare pass hai ,is unchai ko hum sirf salaam karte hai .waah waah waah kya baat hai itna hi kahte hai

    ReplyDelete
  27. ada ji aapke blog par bahut baar aai aur madhur geet bhi sunti rahti hoon ,magar shaadi ki saalgirah par jo rachna daali aur phir aake 3-4 geet bhi suni yahan aur tippani bhi di magar aap badhai dene nahi aai ,achchhe logo se kuchh umeede vevjah kar lete hai shayad ....intjaar me ek mahina nikal gaya ,khas din pe khas ka hona khushi deti hai ,insaaniyat se jyada aur chahte kya ,judi hui hai aap mere blog se isliye na chahte bhi kah gayi ,kis haq se ye pata nahi .
    ek baat kahna chahungi
    gar tum bhula na doge ,
    sapne ye sach hi honge
    hum-tum juda na honge .

    ReplyDelete