Wednesday, December 16, 2009

नैनों में बदरा छाये....गीत गाता हूँ मैं गुनगुनाता हूँ मैं...


फिल्म : मेरा साया
संगीतकार : मदन मोहन
गीतकार : राजा मेहँदी अली खान
आवाज़ : लता

यहाँ आवाज़ मेरी है यानि स्वप्न मंजूषा 'अदा' की......


नैनों में बदरा छाए, बिजली सी चमके हाए
ऐसे में बलम मोहे, गरवा लगा ले
नैनों में...

मदिरा में डूबी अँखियाँ
चंचल हैं दोनों सखियाँ
ढलती रहेंगी तोहे
पलकों की प्यारी पखियाँ
शरमा के देंगी तोहे
मदिरा के प्याले
नैनों में...

प्रेम दीवानी हूँ में
सपनों की रानी हूँ मैं
पिछले जनम से तेरी
प्रेम कहानी हूँ मैं
आ इस जनम में भी तू
अपना बना ले
नैनों में...






चित्रपट : लाल पत्थर
संगीतकार : शंकर-जयकिशन
गीतकार : देव कोहली
गायक : किशोर कुमार

आवाज़ : संतोष शैल

गीत गाता हूँ मैं गुनगुनाता हूँ मैं
मैं ने हँसने का वादा किया था कभी
इसलिये अब सदा मुस्कुराता हूँ मैं

ये मुहब्बत के पल कितने अनमोल हैं
कितने फूलों से नाज़ुक मेरे बोल हैं
सब को फूलों की माला पहनाता हूँ मैं
मुस्कुराता हूँ मैं
गीत गाता हूँ मैं ...

रोशनी होगी इतनी किसे थी खबर
मेरे मन का ये दर्पण गया है निखर
साफ़ है अब ये दर्पण दिखाता हूँ मैं
मुस्कुराता हूँ मैं
गीत गाता हूँ मैं ...



20 comments:

  1. आनन्दम्।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. बहुत बढिया लगा भाई जी को सुन कर!!

    वाह!!

    ReplyDelete
  3. सुबह की शुरुवात मदन मोहन और शंकर जयकिशन जैसे महान संगीतकारों की धुनों और शैल दम्पति की मधुर आवाज के साथ हो तो वह दिन आनन्दमय बीतता है! इसीलिये तो हम सबसे पहले आपके ब्लोग में आते हैं।

    यह अलग बात है कि हमारे लिये सुबह है तो आपके लिये रात। पौराणिक भाषा में कहें तो हम पृथ्वी लोक में हैं और आप पाताल लोक में।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर .......

    ReplyDelete
  5. मेरे प्रिय गीतों में है- गीत गाता हूँ मैं, गुनगुनाता हूँ मैं..."

    उम्दा प्रस्तुतियाँ । आभार ।

    ReplyDelete
  6. अदा जी,
    खुशकिस्मत हैं आप जो नैनों में बदरा छाते हैं...हमारी आंखों में तो कुरकुरे रहते हैं...

    संतोष जी ने कभी हंसने का वादा किया था, इसलिए गुनगुनाते रहते हैं...वरना आपने
    तो कोई कसर....

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुमधुर स्वर में गाये हैं सारे गीत....पूरे परिवार के ही गले में सरस्वती का वास है...कल से बस आपलोगों के गाने ही सुन रही हूँ...खासकर प्रज्ञा बिटिया का गया गीत....क्या खनक है,आवाज़ में...ढेरों आशीष

    ReplyDelete
  8. यह गीत मै भी हमेशा गाता हूँ और गुनगुनाता हूँ ..बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  9. सुंदर गीत, सुनवाने का शुक्रिया ।

    ReplyDelete
  10. बहुत मधुर आवाज़ है आपकी, अदा जी।
    साधना जी पर फिल्माया ये गाना सुनकर हम तो खो से गए। आभार

    ReplyDelete
  11. अहहः...आपने ज़िन्दगी को ना जाने कितने साल पीछे धकेल दिया...शुक्रिया इन गीतों के लिए...आप की आवाज़ के तो क्या कहने...वाह...
    नीरज

    ReplyDelete
  12. अदा जी दोनों गीत सुने ....और दोनों ही मेरे पसंदीदा गीत ......एक अरसे बाद सुने ....रूह तृप्त हो गयी .....!!

    ReplyDelete
  13. Poora parivaar sangeet sadhna main....What to say...

    Ada no doubt dear u r blessed wd melodious n sweet voice....but ur family too ...sings awesome ..
    True pleasure for years !!

    bahut khoob Mitr !!
    Stay blessed !!

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्‍दर बहुत अच्छा लगा..............

    ReplyDelete