Monday, December 9, 2013

Canadian Autumn....

हर मौसम अपना रंग लिए हुए आता है, जीवन के उठते-गिरते भावों की तरह…

पतझड़ की रंगीन निस्तब्धता और मुस्कुराती नीरवता :)

अपने दरख़्त की शाख से हम भी झड़ जायेंगे 
हवा के इक झोंके संग हम भी उड़ जायेंगे 

ख़ामोशी भी बहुत खूबसूरत होती है !
है ना ?











12 comments:

  1. KHOMOSHI KHUBSURAT HO SAKATI BASHARTE AAPAKI TARAH USE KOI BAYAAN KAR JAYE
    WOW ITS GREAT

    ReplyDelete
  2. इतनाss ख़ूबसूरत !!...फोटो लेने के बाद इन सपने जैसी ख़ूबसूरत दृश्यों को छोड़ कदम आगे कैसे बढ़ते हैं ??..सब कुछ भूल इंसान वहीँ रुका रह जाए .एक फोटो को तो अभी अभी अपना स्क्रीम सेवर बना लिया है :)
    ऐसी ही ख़ूबसूरत छटाओं से ह्में समय समय पर रू ब रू करवाती रहा करो .

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (10-12-2013) को मंगलवारीय चर्चा --1456 कमल से नहीं झाड़ू से पिटे हैं हम में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  4. हे भगवान, इतना सुन्दर बनाया है कनाडा आपने।

    ReplyDelete
  5. ये कनेडियन ऑटम है या 'गूगल के सौजन्य से ' !

    हमने तो सुना है कि वहाँ सर्दियों में पारा शून्य से ४० तक नीचे चला जता है, ऐसे में क्या ख़ाक लुत्फ़ लिया जा सकता है सर्दी का, ऊँगली बाहर निकली नहीं की पिघल जाएगी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. 'गूगल के सौजन्य से' का तो ये हिसाब है कि अब लोग हमारी शक्ल, हमारा हुलिया, यहाँ तक कि हमारी पूरी जन्मपत्री, हमारे घर का पता भी वहीँ से पा कर इत्मीनान से सही पते पर पहुँच जाते हैं.।
      रही बात यहाँ की सर्दी का लुत्फ़ उठाने का तो वो भी बताएँगे किसी दिन.।
      (वैसे सर्दी में चीज़ों को पिघलते हमने नहीं देखा है, हाँ सिकुड़ते-अकड़ते ज़रूर देखा है, शायद आपके यहाँ पिघलती हों चीज़ें :) )

      Delete
  6. बेहद खुबसूरत चित्र ,वास्तविकता कैसी होगी ?
    नई पोस्ट भाव -मछलियाँ
    new post हाइगा -जानवर

    ReplyDelete
  7. लाजवाब...बेहद खुबसूरत चित्र...बहुत बहुत बधाई...

    नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

    ReplyDelete
  8. चित्र इतने सुंदर हैं तो वास्तविकता कितनी हसीन होगी.

    ReplyDelete
  9. एकदम स्क्री्म सेवर बनाने लायक!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी नज़रों को दाद देनी पड़ेगी :)

      Delete
  10. कुछ फोटोग्राफ मैंने अपने पास सुरक्षित कर लिए हैं, बिना आपके पूछे। इस सुन्‍दरता को केवल देख के जज्‍ब किया जा सकता है।

    ReplyDelete