Thursday, May 9, 2013

एक झटपट पोस्ट...फ्रॉम अमस्टरडम :)

एक झटपट पोस्ट डाल रही हूँ। 

इस समय होलैंड के अमस्टरडम शहर में हूँ। यह कैनालों का शहर है। कल सारा दिन कनालों के चक्कर लागते रहे हम। खूबसूरत लोगों का बहुत ही खूबसूरत शहर है। कल पहले तो मौसम सुहाना था, बाद में मुम्बई की बरसात का क्या है एतबार वाला हाल हो गया। जम  के बारिश होने लगी और हम बरसाती मेंढक बन गए थे। 
लेकिन दिमाग हमारा है खुराफ़ाती,  सोचते रहे क्या ख़ास बात है यहाँ, और हमको नज़र आ ही गयी एक ख़ास बात। 
एक बात जो सबसे ज्यादा आकर्षित कर रही है यहाँ, वह है, साईकिलों की भरमार। यहाँ के लोग ज़्यादातर साईकिल का ही इस्तेमाल करते हुए नज़र आ रहे हैं और इसके कई फायदे भी नज़र आ रहे हैं, वातावरण में प्रदूषण न के बराबर है, लोग फिट-फाट दिखाई दे रहे हैं, पेट्रोल की खपत पर अंकुश है, जिसके कारण पेट्रोल बेचने वाले देशों की दादागिरी का कम ही असर है और सड़कों पर पार्किंग की मारा-मारी नहीं है। पूरे होलैंड की बात तो नहीं कर सकती मैं लेकिन अमस्टरडम कुल मिला कर काफी संयत, ऑर्गनाइज्ड और खूबसूरत लगा। सोचियेगा आपलोग भी साईकिल के इस्तेमाल के बारे में :)

बाकी फिर कभी, अभी ज़रा जल्दी में हैं हम :)














होटल के पार्किंग लोट में भी साइकिल ही नज़र आ रहे हैं :):)

30 comments:

  1. अमस्टरडम वाकई बहुत खूबसूरत शहर है. साइकल डच लोगों की पसंदीदा सवारी है और उसके फायदे तो आपने गिना ही दिए. आपकी यात्रा सुखमय हो.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्‍दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कहां हैं। स्‍वास्‍थ्‍य तो ठीक है ना। बहुत दिनों से कोई खबर नहीं है आपकी।

      Delete
    2. कुछ दिनों के लिए ही सही लेकिन आज आ गई हूँ विकेश।
      तुमने याद किया, बहुत शुक्रिया।

      Delete
  3. अमस्टरडम के खूबसूरत चित्र शेयर करने के लिए धन्यबाद.

    ReplyDelete
  4. इंतज़ार था इन तस्वीरों का...और तुम्हारी नज़र के तो क्या कहने...ख़ास बात सचमुच खास है

    ReplyDelete
  5. क्या यहाँ लोग साइकल को ताला लगाते हैं या फिर मोटी संगल से बंधते हैं. अथवा यूँ ही छोड़ देते हैं.

    ReplyDelete
  6. वाकई बिना प्रदूषण के दुनिया बहुत खूबसूरत हो जायेगी

    ReplyDelete
  7. खुबसूरत चित्रों के संग साइकल का चलन क्या बात है

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (10-05-2013) के "मेरी विवशता" (चर्चा मंच-1240) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  10. चलिए इतने कम समय में अपने अनुभव शेयर कर लिए ..
    इतने सुंदर सुंदर चित्र भी मिले ..
    आभार आपका !!

    ReplyDelete
  11. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  12. हमारे यहाँ भी मंत्री और ऑफिसर्स कभी कभी एक दिन के लिए साइकिल से ऑफिस जाते हैं.....
    with cameras and media...
    :-)

    अनु

    ReplyDelete
  13. शुभ प्रभात दीदी
    बढ़िया जानकारी.....
    ख्याल रखियेगा अपना
    भागा-दौड़ी में सेहत में नरमी आ जाती है
    सादर

    ReplyDelete
  14. अरे अभी तक तो मैं ये सुनता आया हूँ की विदेशों में झाड़ू वाला भी कार से आता है और आप कह रहीं हैं की वहां लोग होटल में भी साईकिल से पहुचते हैं । जमाना बदल रहा है क्या ?

    ReplyDelete
  15. सुन्दर चित्र

    ReplyDelete
  16. हम तो बस दिमाग से साइकिल हैं, काश कर्म से भी हो जायें, कुछ तो लाभ हो जायेगा।

    ReplyDelete
  17. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और भी पढ़ें;
    इसलिए आज 14/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    पर (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में)
    आप भी देख लीजिए एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  18. बढिया। dykes के चित्र भी हों तो मजा आ जाय। बहुत पढ़ा है उनके विषय में। आपके कैमरे की नजर से देख भी लें। :)

    ReplyDelete
  19. सर्वोत्त्कृष्ट, अत्युत्तम बहुत सुन्‍दर
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र कुछ नया और रोचक पढने और जानने की इच्‍छा है तो इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    ReplyDelete
  20. Very nice blog and very well written.Happy to find this type of stuff here.

    ReplyDelete
  21. सुन्दर चित्रों से सुसज्जित लाजवाब, उत्तम पोस्ट | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  22. अब तक तो पूरी हो ली होगी यात्रा, :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. बस ये ख़तम तो दूसरी की तैयारी होने लगी है समीर जी :)

      Delete
  23. अति सुन्दर चित्र । आपकी सुखद यात्रा के लिए शुभकामनाएँ । सस्नेह

    ReplyDelete