Thursday, July 25, 2013

जे हम तुम चोरी से, बंधे एक डोरी से, जईयो कहाँ ए हज़ूर …!

हमरे घर में, हमरी पीढ़ी ने पहली शादी की,  संतोष जी की जुडवाँ बहन, पुष्पा कृष्णास्वामी की बेटी, शालिनी का शुभ विवाह, आन्द्रे (दामाद फ्रेंच है और लास्ट नेम तो बहुते फ्रेंच है,  बहुते कोसिस किये मगर याद कहाँ रहा भला :)) के साथ २० जुलाई २०१३ को, केनन बीच, ऑरेगन, यू एस ए में, धूम-धाम से संपन्न हुआ …। 
उपर वाले की महती किरपा रही कि, भागते-दौड़ते हम कईसनो समय पर पहुँचिये गए…। जोन दिन भारत से कैनेडा पहुँचे वही रतवा में यू एस की रवानगी थी हमरी, आराम कौन चिड़िया का नाम है, ई कोई जानने भी नहीं दिया। ऊ दिन और आज का दिन है,  ढंग से सोये नहीं हैं, जूता सिलाई से चंडी पाठ किये जा रहे हैं बस्स्स्स्स.… हाँ नहीं तो !!
पेश हैं कुछ तस्वीरें मयंक शैल के सौजन्य से :)

लीज़ा, पुष्पा की सम्धन, प्रज्ञा, पुष्पा और मैं 
मेरी बेटी प्रज्ञा (चिन्नी ) हल्दी की रस्म में 
जय, शालिनी का छोटा भाई 
लीज़ा, प्रज्ञा और मृगांक 

शालिनी (मेहंदी की रस्म )


आन्द्रे, शालिनी और मैं 
पूरा परिवार शादी के बाद



सारे होसियार, सियार बन गए थे, 'हे स्टॉक ' बीच पर 

लीज़ा (हमरी होने वाली बहू) और चिन्नी (प्रज्ञा) मेरी छोनी-मोनी बेटी, केनन बीच पर ऊँची छलाँग लगाते हुए, जीवन में भी ऐसी ही छलांग लगाने का इरादा रखतीं हैं दुनो 
जय, लीज़ा और चिन्नी, केनन बीच पर 
जय, चिन्नी, पुष्पा और लीज़ा 

प्रज्ञा के दोनों  बड़े भाई हमेशा प्रज्ञा के पीछे रहते हैं  :)


मेरा छो छ्वीट बेटा, डॉ मृगांक, जो शिकागो से सिर्फ एक दिन के लिए ही आ पाया 







कुछ लिखने का कोसिस किये हैं, कच्चा-पक्का ही है, आपलोग ज़रा माफ़ी और साफ़ी के साथ नोश फ़र्माइयेगा पिलीज :)


वो पहले तो मेरी सब्र को, हवा देने लगे
कहीं मर न जाऊं सोच कर, फिर दवा देने लगे

पहले जला कर ख़ाक में, मुझको मिला दिया
फिर जन्नत-ए-नशीं की, दुआ देने लगे

है किसे परवाह अब, मेरे ग़म रहें सलामत
फ़जूल में दीदार का, क्यूँ सिला देने लगे

आये थे बड़ी दूर से, मिली शब्-ए-हिज्र सौगात
अब तअस्सुफ़ के कई हाथ, मुझे सज़ा देने लगे

शब्-ए-हिज्र= जुदाई की रात
तअस्सुफ़=पश्चताप 





39 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभ प्रभात

      आ गई आप
      चलो अच्छा हुआ
      वरना ये सावन
      आपके बिना
      अधूरा सा लगता
      शादी मुबारक

      सादर

      Delete
    2. अरे ! ये तो तुम्हारा स्नेह है ।
      तुम्हें भी ढेर सारा स्नेह और सावन की झाड़ियाँ मुबारक़ :)

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बृहस्पतिवार (25-07-2013) को हौवा तो वामन है ( चर्चा - 1317 ) पर "मयंक का कोना" में भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत शुक्रिया शास्त्री जी !

      Delete
  3. आप आईं और चुप्पै चाप लौट गईं -न बिहार हिला न बंगाल और न इ अपना ई यू पी -काहें कि कनाडा सुन्दरी हैं आप :p

    ReplyDelete
    Replies
    1. वोई तो !
      जब कुछो हिलना ही नहीं था तो काहे बेफजूल में कोसिसो करना :)
      हाँ नहीं तो !

      Delete
    2. अरे तनिकौ कोशिश त की होतीं -हिलना नहीं जलजला आ जाता -आप अपनी तकतवै नहीं जानती पहचानती !
      हनुमान जी जैसी भोली हैं :-)

      Delete
    3. अरे का बात करते हैं अरविन्द जी, कोई ज़लज़ला नहीं आवेगा …
      हम तो कहीं मेहमान भी जाते हैं तो बर्तन-बासन करके आते हैं, ताकि अगले को ये ना लगे मेहमान आये थे, उनको ई लगे कि कोई अपने घर से आये थे लोग-बाग़ :)
      और एक बात आपने तो घोषित राम-विरोधी को राम-भक्त बना दिया, दिल से शुक्रिया :)
      अब फिर पहुँचने ही वाले हैं हम इन्डिया अगले महीने, बनारस जब भी आवेंगे आपको ज़रूर बतावेंगे, और ई भी तय है कि बनारस आना ही है हमको। अब देखिये कब संजोग बनता है

      Delete
  4. सबको ढेरों बधाई, नवयुगल को शत शत शुभकामनायें, सुन्दर चित्र आनन्द के।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका शुक्रिया।
      जी हाँ, आनन्द तो बहुत आया हमलोगों को….

      Delete
  5. नव दम्पति को बहुत बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं !
    latest postअनुभूति : वर्षा ऋतु
    latest दिल के टुकड़े

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत बधाई ....शुभकामनायें....

    चित्र बहुत सुंदर हैं...आप तो एकदम रिफ्रेशिंग लग रही हैं लाल साड़ी में ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका ह्रदय से धन्यवाद मोनिका जी
      साड़ी हमारी नहीं छूटती हम कहीं भी रहें :)
      सूती साड़ी पहनने में रिफ्रेशिंग होती ही है :)

      Delete
  7. इंग्लिश विंग्लिश की याद आ गई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपना तो वही हाल है, जिसकी आपको याद आई :)

      Delete
  8. बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनायें नवदम्पति को।

    ReplyDelete
    Replies
    1. पहुँचा देंगे आपकी बधाई और शुभकामनायें नवदंपत्ति तक, फिलहाल ऊ लोग बीजी हैं मधुमास में, आप भी उनकी तरफ से धन्यवाद ले लीजिये :)

      Delete
  9. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  10. पित्स्बर्ग से भी हार्दिक बधाई और शुभकामनायें स्वीकारिए!

    ReplyDelete
    Replies
    1. पिट्सबर्ग तक हम सभी का धन्यवाद पहुंचे :)

      Delete
  11. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सहित धन्यवाद सक्सेना जी …

      Delete
  12. मैंने बीच में आपका हालचाल जानना चाहा था, शायद व्‍यस्‍तता के कारण आप देख न सकी होंगी। खैर अब आपकी वापसी से अच्‍छा लग रहा है, आनंद प्राप्‍त हो रहा है। विवाहित जोड़े को शुभकामनाओं सहित एक बार पुन:स्‍वागत है आपका।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ विकेश देख चुकी हूँ और जवाब भी दे दिया था मैंने , व्यस्त ही इतनी थी मैं
      तुम सबको देख कर मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा है
      फिर तुमने याद किया था, यह जान कर बहुत ख़ुशी हुई :)

      Delete
  13. ढेरो बधाईयां ,शुभकामनाये |

    ReplyDelete
  14. शालिनी-आन्द्रे के सुखमय जीवन की कामना और इस शुभावसर पर आप सबको बहुत सारी बधाई।
    सभी चित्र बहुत सुंदर हैं, विशेषकर बीच पर बच्चों के चित्र। मौका मिले तो शादी के बारे में और विस्तार से बताईयेगा, अपने इंग्लिश-विंग्लिश स्टाईल में।

    ReplyDelete
    Replies
    1. @संजय अनेजा जी
      मान्यवर,
      चित्र आपको पसंद आये, आपका आभार !
      बाक़ी जो आप कहे हैं करने को इंग्लिश-विन्ग्लिश इश्टाईल में तो
      आई कम फ्रॉम द इंडिया, माई इंग्लिश वीक.… आई ट्राई टू राईट तो यू रीड ना ? :)

      Delete
    2. @अनुज संजय झा

      :):):)
      :(:(:(

      ई कौची है ????
      (:(:(:

      Delete
  15. अरे हमने देखी ही नहीं थी ये पोस्ट.....
    बधाई जी...
    आपको देख दिल खुश हुआ :-)

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. तुमको ख़ुश देख कर हमको बहुते ख़ुश हुआ :):)

      Delete
  16. :)

    mubaarak baaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaad

    ReplyDelete
  17. शालिनी-आन्द्रे को बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !!
    सारे चित्र बहुत ही ख़ूबसूरत हैं...बहुत आनंद आया .

    ReplyDelete