Thursday, March 24, 2011

सात दिनों तक दूर हूँ...

सात दिनों तक दूर हूँ...
आपलोगों का प्रेम भरा अनुरोध मैं भला कैसे टाल सकती हूँ..!!
आपके प्रोत्साहन भरे शब्दों के लिए हृदय से आभारी हूँ...
धन्यवाद...
...अदा'
 
दीवाना हुआ बादल...       

   
चंदा ओ चंदा..       

                       
   
 
तेरी आँखों के सिवा दुनिया में..

15 comments:

  1. Aapko miss to bahut karenge!

    ReplyDelete
  2. आईये, इन्तजार रहेगा.

    ReplyDelete
  3. चाहे रहो दूर, चाहे रहो पास,
    सुन लो मगर इक बात,
    तुम उस गली तो सारे ब्लॉगर उस गली,
    रहेंगे हमेशा ही साथ...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  4. awaaz hai n mere paas .... ye sunke dil jhuma , diwani hui rashmi

    ReplyDelete
  5. intjaari rahegi... jaldi aaiyega....aapki awaaj maine charchamanch par pahuncha diya hai...

    ReplyDelete
  6. adhe to bit gaye ......

    phir milte hain

    pranam.

    ReplyDelete
  7. खूब टॉनिक दे गईं हैं आप कानों के लिए.
    शुक्रिया है आपका इन तीन गानों के लिए.

    ReplyDelete
  8. अरे वाह। 24 + 7 = 31. आज बीत गई 29, हम तो आज ही आये हैं यानि कि अब सिर्फ़ एक ही दिन बचा न?
    लौटिये, हमें इंतज़ार है।

    ReplyDelete
  9. कुछ साल पहले एक फ़िल्म आई थी, ’वो सात दिन’ अपने को अच्छी भी लगी थी। ’बैक टु बैक’ देखी थी। लेकिन आपकी ’ये सात दिन’ हमें पसंद नहीं आई और ’बैक टु बैक’ देखनी पड़ रही है। हमारा प्रोटैस्ट नोट किया जाये:)
    आशा है सब कुशल है, शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  10. world CUP mubaarak ho ADA madam...!!!



    !!


    !

    ReplyDelete
  11. अदा जी अब तो पूरा महीना गुज़र गया ........... सब खेरियत हे .....???

    ReplyDelete