Monday, March 14, 2011

ऐसा हो नहीं सकता.....


मैं ठोकर खाके गिर जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता
गिर कर उठ नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

तुम हँसते हो परे होकर, किनारे पर खड़े होकर
मैं रोकर हँस नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

अभी जीना हुआ मुश्किल, घायल है बड़ा ये दिल
मैं टूटूँ और बिखर जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

खिंजां का ये मंज़र है, कभी बादल घना-घन है
मैं छीटों में ही घुल जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

कश्ती की बात रहने दे , समन्दर भी डुबो दे तू
किनारे तैर न पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

गिरी है गाज हमपर अब, कभी बिजली डराती है
मैं साए से लिपट जाऊँ , ऐसा हो नहीं सकता

सभी सपने कुम्हलाये, तमन्ना रूठे बैठी है
मैं घुटनों पर ही आ जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

तू मेरा हैं मैं जानू, ये क़ायनात तेरी है
मैं तेरा हो नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता


24 comments:

  1. मैं बिना वाह वाह किये चला जाऊ..
    ऐसा हो नहीं सकता
    मैं हर रोज इस ब्लॉग पर न आऊं
    ऐसा हो नहीं सकता...

    ReplyDelete
  2. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 15 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  3. अति सुंदर आपके वीडियो को "अपना ब्लॉग" में शामिल कर लिया गया है, यदि आपके अन्य वीडियो भी हैं तो लिंक दीजिए सभी को शामिल कर लिया जायेगा

    ReplyDelete
  4. अदा जी, मेरी नज़रों में आप की बेहतीन रचना.
    बेहद आशावादी.
    होना भी चाहिए
    सलाम.

    ReplyDelete
  5. कृपया बेहतरीन पढ़ें.

    ReplyDelete
  6. जितना सुन्दर लिखा है, उतना ही सुन्दर गाया है। आनन्द आ गया।

    ReplyDelete
  7. यही हौसला होना चाहिए ...अच्छी पेशकश

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर मधुर स्वर है, ग़ज़ल भी खूबसूरत है,
    मैं इसको सुन नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता!!

    ReplyDelete
  9. nice lines ,nice presentation and of course nice voice quality,EXCELLENT.

    ReplyDelete
  10. ashutosh ne sahi kaha...........ham bhi ab aisee koshish karenge..:)

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत ख़याल और दमदार कहन| बधाई अदा जी|

    ReplyDelete
  12. aapne bahut achha likha h aur utna achha swar bhi diya......

    ReplyDelete
  13. फेन हो गए आपके बहुत ही अच्छी वोइस है आपकी अच्छा पोस्ट है ! हवे अ गुड डे
    मेरे ब्लॉग पर आए !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  14. यही वह वीडियो है जिसे देखकर इस ब्लॉग के, ब्लॉगस्वामिनी के, उसके हौंसले के, उसकी आवाज के, उसके दमखम के, उसके भरोसे के, उसके विश्वास(etc, etc.) के प्रशंसक बने थे:)
    पहले भी एक बार कहा था, जिसने इस कविता को लिखा और गाया है, अपनी नजर में उसकी पहचान ’फ़ीनिक्स’ से कम नहीं है। इसीलिये कभी कभी आपके ब्लॉग पर उदास रचनायें देखकर चैक करना पडता है कि ये अदा जी का व्ब्लॉग ही है न? वैसी पोस्ट देखने के बाद हर बार यह वीडियो देखता हूँ और बेफ़िक्र हो जाता हूँ। यकीन पुख्ता रहता है अपना, ’फ़ीनिक्स’ फ़िर पंख झाड़कर उठ खड़ा होगा और हमेशा ऐसा पाया भी है।
    फ़िर से शेयर करने के लिये शुक्रिया।

    ReplyDelete
  15. ऊपर वाली टिप्पणी कॉपी करूँ?
    इतने अच्छे शब्द नहीं दे पाऊँगा, लेकिन कहना वही है। :)
    शानदार।

    ReplyDelete
  16. आप कविता लिखे, और मैं न पढूं, ऐसा हो नहीं सकता :)

    ReplyDelete
  17. मैं ठोकर खाके गिर जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता
    गिर कर उठ नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता

    ऐसा होना भी नहीं चाहिए. बढ़िया है.

    ReplyDelete
  18. मैं ठोकर खाके गिर जाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता
    गिर कर उठ नहीं पाऊँ, ऐसा हो नहीं सकता
    main to aage bhi ise gaate huye sun chuki hoon ,iske bhav behad sundar hai .

    ReplyDelete
  19. इस हौसले के कद्रदान हम भी हैं !

    ReplyDelete
  20. गिर कर उठ नहीं पाऊं , ऐसा हो नहीं सकता ...
    अनगिनत बार सुना है ...हर बार नया ही लगता है ..
    हौसला यूँ ही बना रहे !
    और दूसरों का हौसला भी बनाये रखें !

    ReplyDelete
  21. देर से आया पर आ के निहाल हो गया. आपके आवाज़ में आपकी ही रचना मैंने पहली बार सूनी, वो भी इतनी दमदार. :)

    ReplyDelete
  22. आप गाएं और हम ना सुनें, ऐसा हो नहीं सकता :)
    बडी लगन से गाए गीत के लिए बधाई॥

    ReplyDelete