Friday, March 18, 2011

श्री समीर लाल 'समीर' और श्री ललित शर्मा जी की होली प्रस्तुति....'अदा' की आवाज़...


होली की असंख्य बधाईयाँ...!!

चढ़ गया रे फागुनी बुखार...
गीतकार : श्री समीर लाल 'समीर'
संगीतकार : श्री संतोष शैल
गायिका: स्वप्न मञ्जूषा 'अदा'



गीत : सजना सन्मुख सज के सजनी...
गीतकार: श्री ललित शर्मा
संगीतकार : श्री संतोष शैल 
गायिका:  स्वप्न मञ्जूषा 'अदा'


आप सभी का हृदय से आभार...
ये दोनों गीत पूरे एक साल पुराने हैं...पिछले वर्ष मैंने इन्हें समीर जी और ललित जी स्नेहासिक्त अनुरोध पर गाया था...
इस वर्ष तो यूँ भी होली हमारे घर में नहीं मनी...मेरा घर अभी भी मेरे बाबा के निधन पर शोक-संतप्त है...
आपलोगों ने इन गीतों को पसंद करके मेरा, गीतकार श्री समीर जी और श्री ललित जी और संगीतकार श्री संतोष शैल जी का मान बढ़ाया है...
पुनः आपका धन्यवाद..
'अदा'

31 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर आवाज़ मे बहुत सुन्दर गीत सुनकर मज़ा आ गया। होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर गीत मैंने यह गीत आपके यू-ट्यूब चैनल पर देखा था

    इस गीत को वीडियो में यहाँ देखें

    ReplyDelete
  3. khoob bhalo 'indradanukhi' rangoli...........

    geet sunte pari na........dipawali ker subhokamana
    opna shobay ke.........

    paronam.

    ReplyDelete
  4. मन प्रफुल्लित हो गया अदा जी...ये दोनों गीत सुन कर..लाजवाब।

    ReplyDelete
  5. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.03.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  6. वाह! गजब की प्रस्तुति!वैसे इस बुखार की एक दवाई मैं जानता हूँ, दो लोटे ठंडाई भांग बिना चटनी वाली पकौडी के!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर , दोनों गीत भी और आपका गायन भी ।
    बधाई ।
    होली की हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  8. गज़ब रे गज़ब। हम पर भी कृपा कर दें, हम भी लिखते हैं आपकी आवाज़ के लिये।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    मस्त फुहारें लेकर आया,
    मौसम हँसी-ठिठोली का।
    देख तमाशा होली का।।
    --
    होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. wah bahut sundar aur mithi aawaj hai aapki...dono gane bahut hi achche lage...

    holi ki bahut bahut shubhkamnaye...

    ReplyDelete
  11. मज़ा आ गया। होली की हार्दिक शुभकामनायें और बधाई...

    ReplyDelete
  12. होली की हार्दिक शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  13. ये गीत पहली बार सुने हैं, अच्छे लगे, लगने ही थे:))

    हैप्पी होली।

    ReplyDelete
  14. Holee kee dheron shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  15. वाकई चढ़ गया जी बुखार, अब उतरेगा कैसे ये तो बता दीजिए...

    तन रंग लो जी आज मन रंग लो,
    तन रंग लो,
    खेलो,खेलो उमंग भरे रंग,
    प्यार के ले लो...

    खुशियों के रंगों से आपकी होली सराबोर रहे...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  16. kitni meethi awaaz hai aapki, sunder geet aur bhi sunder ho gaye aapki awaaz pakar. Happy holi!!!

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर,
    होली पर्व की घणी रामराम.

    ReplyDelete
  18. भजन करो भोजन करो गाओ ताल तरंग।
    मन मेरो लागे रहे सब ब्लोगर के संग॥


    होलिका (अपने अंतर के कलुष) के दहन और वसन्तोसव पर्व की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  19. स्पेअकर न होने से सुन नही पाई .......
    आपको होली की शुभकामनाये
    ...

    ReplyDelete
  20. ’होलिका वध’ शुभ हो!
    ’मदनोत्सव’और रंगपर्व की सभी को बधाई!
    Hally Hoppy!

    ReplyDelete
  21. होली का आनंद आ गया.... बहुत सुन्दर......

    ReplyDelete
  22. चढ़ गया रे फागुनी बुख़ार ...
    बहुत अच्छा लगा ये गीत
    होली की हार्दिक शुभकमनाएं

    ReplyDelete
  23. रंगों की चलाई है हमने पिचकारी
    रहे ने कोई झोली खाली
    हमने हर झोली रंगने की
    आज है कसम खाली

    होली की रंग भरी शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  24. रंगपर्व की अशेष शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  25. खूबसुरत प्रस्तुति...

    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  26. नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  27. खूबसूरत गीत ...
    आपको और आपके परिवार को त्यौहार की बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  28. दोनो गीत सुनकर मन प्रसन्‍न हो गया ...
    आप सबों को त्यौहार की बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  29. आप सभी का हृदय से आभार...
    ये दोनों गीत पूरे एक साल पुराने हैं...पिछले वर्ष मैंने इन्हें समीर जी और ललित जी स्नेहासिक्त अनुरोध पर गाया था...
    इस वर्ष तो यूँ भी होली हमारे घर में नहीं मनी...मेरा घर अभी भी मेरे बाबा के निधन पर शोक-संतप्त है...
    आपलोगों ने इन गीतों को पसंद करके मेरा, गीतकार श्री समीर जी और श्री ललित जी और संगीतकार श्री संतोष शैल जी का मान बढ़ाया है...
    पुनः आपका धन्यवाद..
    'अदा'

    ReplyDelete
  30. @ Sanjay Jha..

    geet sunte pari na........dipawali ker subhokamana
    opna shobay ke.........

    DIPAWALI ????
    KI HOLO SONJOY BABA???

    ReplyDelete
  31. होली की हार्दिक शुभ कामनाएं |

    आशा

    ReplyDelete