Monday, March 21, 2011

चेहरे ............ आपके हसीन रुख़ पे...आवाज़ 'अदा' की


ताल्लुक़ से खिलवाड़ न कर, रिश्ते बिगड़ जाते हैं
आँख में होकर भी चेहरे, दिल से उतर जाते हैं  

कुछ चेहरों को सँवरने की, ज़रुरत कहाँ पड़ती है 
रुख-ए-रौशन की झलक पाकर, आईने सँवर जाते हैं

इस ज़मीं से फ़लक तक की, दूरी नापने वालो 
तेरे वज़ूद से तेरे फ़ासले, तुझको क्या बताते हैं ? 

मैं तेज़ धूप में रहना चाहूँ, संग मेरे मेरा साया है
छाँह में मेरे खुद के साए, मुझसे मुँह छुपाते हैं 

आँधी के सीने में 'अदा', महबूब की चाहत होती है 
रेत पे उसकी साँसों से, कई अक्स उभर कर आते हैं

आपके हसीन रुख़ पे...आवाज़ 'अदा' की

Get this widget | Track details | eSnips Social DNA


18 comments:

  1. वाह दी, हरेक पंक्ति रिश्तों को समझाती सी लग रही है..
    इन पंक्तियों ने तो मजबूर ही कर दियामुझे भी कुछ लिखने को
    मैं तेज़ धूप में रहना चाहूँ, संग मेरे मेरा साया है
    छाँह में मेरे खुद के साए, मुझसे मुँह छुपाते हैं

    वाह

    ReplyDelete
  2. ताल्लुक़ से खिलवाड़ न कर, रिश्ते बिगड़ जाते हैं
    आँख में होकर भी चेहरे, दिल से उतर जाते हैं

    वाह , वाह , बहुत सही कहा अदा जी ।
    मनमोहक गाना ।

    ReplyDelete
  3. ब्हुत सुंदर अदा जी। शानदार।

    ReplyDelete
  4. आँख में होकर भी चेहरे दिल से उतर जाते हैं ...
    एक पंक्ति मेरी भी जोड़ लीजिये उधार की है
    कैसे पड़ते हैं भंवर रिश्तों की नदी में कभी कंकर डाल कर नहीं देखा !

    खूबसूरत ग़ज़ल ...

    ReplyDelete
  5. एक एक पंक्ति ने झंकृत कर दिया।

    ReplyDelete
  6. ताल्लुक़ से खिलवाड़ न कर, रिश्ते बिगड़ जाते हैं,
    आँख में होकर भी चेहरे, दिल से उतर जाते हैं...

    आईना वही रहता है मगर चेहरे बदल जाते हैं...

    जय हिंद...




    जय हिंद...

    ReplyDelete
  7. रिश्तों की गरिमा बनाये रहने के कारगर नुस्खे ...

    ताल्लुक़ से खिलवाड़ न कर, रिश्ते बिगड़ जाते हैं,
    आँख में होकर भी चेहरे, दिल से उतर जाते हैं.

    बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  8. ताल्लुक़ से खिलवाड़ न कर, रिश्ते बिगड़ जाते हैं
    आँख में होकर भी चेहरे, दिल से उतर जाते हैं

    kya baat kah di....didi ne........


    pranam.

    ReplyDelete
  9. रुख-ए-रौशन की झलक पाकर, आईने सँवर जाते हैं....

    ये आईने तो झूठे होते होंगे :)

    ReplyDelete
  10. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 22 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  11. हर पंक्ति एक से बढ़कर एक, सोचने समझने को मजबूर करती हुई। गहरी बातें भी बहुत खूबसूरत और सहज तरीके से लिख डालती हैं आप।
    गाना हमेशा की तरह मधुरम मधुरम।

    ReplyDelete
  12. खूबसूरत ग़ज़ल ...

    ReplyDelete

  13. हाँ जी.. आज टिप्पणी कर रहा हूँ,
    भला बताइये, मेरा दिल मचल गया तो मेरा क्या कुसूर है ?

    ReplyDelete
  14. ताल्लुक़ से खिलवाड़ न कर, रिश्ते बिगड़ जाते हैं
    आँख में होकर भी चेहरे, दिल से उतर जाते हैं

    कुछ सीख और सबक देती हुई पोस्ट . गाना तो बढ़िया है ही.

    ReplyDelete
  15. मैं तेज़ धूप में रहना चाहूँ, संग मेरे मेरा साया है
    छाँह में मेरे खुद के साए, मुझसे मुँह छुपाते हैं

    मन को छूती बहुत अच्छी पन्तियाँ ....

    ReplyDelete
  16. rishte agar sachhe hon to kabhi bigarte nahin,
    unki sugandhi se bigare rishtey bhi sanwar jate hain.

    bahut acchi baat likhi hai aapne, par main thora positive hun rishton ke prati,isliye apne vichar kuchh iss tarah vyakt kiye.

    ReplyDelete
  17. bahut khoobsurat gazal...daad kabool karen..

    ReplyDelete
  18. यूं तो सब बेहतर पर अपना वोट ...


    मैं तेज़ धूप में रहना चाहूँ, संग मेरे मेरा साया है
    छाँह में मेरे खुद के साए, मुझसे मुँह छुपाते हैं

    ReplyDelete