Tuesday, October 30, 2012

शब्दों के खंडहर ....!



कोई प्रसंग नहीं,
चिंतन नहीं,
सृजन की भूमिका भी नहीं,
न कोई योग बना,
न कुछ प्रत्यक्ष हुआ,
बस, अंतस के अकाल पर,
शब्दों के बूँद,
झमा-झम बरस गए,
और...
पंक्तियाँ गुनगुनाने लगीं,
तीसरी पंक्ति,
उषा सी, क्षितिज पर,
चटक गयी...।
तक्षशिला के खंडहर बने
थोड़े शब्द,
उदास थे,
कुछ दूर खड़े थे,
कुछ मेरे आस-पास थे,
बैठे-बैठे, अंतिम पंक्ति,
स्वयं निकल आई,
मूक तो लगी थी मुझे वो,
परन्तु..
अब धीरे-धीरे बोलने लगी है .... !!

9 comments:

  1. बढ़िया कविता...

    ReplyDelete
  2. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 31/10/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति |
    आभार आदरेया ||

    ReplyDelete
  4. खंडहर रहें, फिर भी तो कुछ कहते हैं..

    ReplyDelete
  5. सुंदर अभिव्‍यक्ति ..

    ReplyDelete
  6. ’सैंडी’ से पहले का मंजर है या बाद का? :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब सैंडी से पहले की हो या बाद की, क्या फर्क पड़ता है ....आंधी तूफ़ान के नामकरण तो आजकल औरतों पर ही हो रहे हैं।
      सैंडी, नीलम से आप लोग वाकिफ हो चुके, अगले तूफ़ान का नाम क्या हो कौन जाने , शायद 'अ .. :)

      Delete