Tuesday, September 25, 2012

रिटर्न ऑफ़ काव्य मञ्जूषा

इधर दो-चार दिन हमरा बिलाग अदृश्य रहा कारण नीचे है।
हम जो अपने बिलाग के बैक ग्राउंड में फूल-पत्ती लगाए थे शायद ऊ कॉपीराईट का उल्लंघन कर गया था।
खैर अब सब ठीक है। इसलिए काव्य मञ्जूषा वापिस आगया है। आपलोग भी मेरी इस गलती से कुछ सीख लीजिये। इसीलिए ई सब लिख रहे हैं।

जितने लोगों ने ईमेल से मुझे मेरे ब्लॉग के गायब होने के लिए अवगत कराया था उन सबका बहुत धन्यवाद। 

सभार,
'अदा'

Hello,

This is a follow up to the DMCA takedown notice we sent you regarding
http://swapnamanjusha.blogspot.com/.
Blogger has been notified, according to the terms of the Digital
Millennium Copyright Act (DMCA), that certain content (the blog background
image at
http://themes.googleusercontent.com/image?id=15WpXezK_EJnbLiccWkVt3W0zzf1TQraiKrJPyDvVmnulsEaS7pxD4ot0icoA44nu-xTv
)
in your blog is alleged to infringe upon the copyrights of others. As a
result, we have removed the image in question (If we did not do so, we
would be subject to a claim of copyright infringement, regardless of its
merits.

A bit of background: the DMCA is a United States copyright law that
provides guidelines for online service provider liability in case of
copyright infringement. If you believe you have the rights to post the
content at issue here, you can file a counter-claim with us. For more
information on our DMCA policy, including how to file a counter-claim,
please see
http://www.google.com/support/bin/request.py?contact_type=lr_counternotice&product=blogger.

The notice that we received, with any personally identifying information
removed, will be posted online by a service called Chilling Effects at
http://www.chillingeffects.org. You can search for the DMCA notice
associated with the removal of your content by going to the Chilling
Effects search page at http://www.chillingeffects.org/search.cgi, and
entering in the URL of the blog.

If it is brought to our attention that you have republished the image in
question, then we will count it as a
violation on your account. Repeated violations of our Terms of Service may
result in further action taken against your Blogger account including
deleting your blog and/or terminating your account. If you have legal
questions about this notification, you should retain your own legal
counsel.

Regards,

The Google Team


Hello Swapna,

We reviewed the URL in question, verified that it has been removed and
have reinstated the following URL(s):

http://swapnamanjusha.blogspot.com/

Regards,

The Google Team

37 comments:

  1. चलिये वापस तो आये

    ReplyDelete
  2. हम तो कुछो नहीं लगाते हैं पीछे, बस सफेदा, सूरज का कॉपीराइट..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी बात का कहें...बड़े लोग सीधा टोपम-टोप लोगों से ही वास्ता रखते हैं...:)

      Delete
  3. सबसे पहले वापसी की शुभकामनाएं फिर ये कि आगे हम भी सावधान रहेंगे ! आपका शुक्रिया !

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी हाँ अली साहब सावधान रहने में ही भलाई है, हम तो विश्राम हो गए थे...:)

      Delete
  4. अरे बाप रे !
    .
    .
    .पुनर्जीवन की बधाई :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका धन्यवाद ...!

      Delete
  5. great information
    and thanks for uploading the same
    congrats for restoration

    ReplyDelete
  6. oh god!!!
    thanks for this vital information....
    we must be careful.

    thanks again.
    bless u

    anu

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल केयरफुल होने को मांगता है...
      सावधानी हटी दुर्घटना घटी...:)

      Delete
  7. अदा जी, मैं तो आपके ब्लॉग पर पढने के बाद सीधे अपने ब्लॉग पर गया कि कहीं मैंने भी तो कहीं कोई फूल -पत्ती नहीं लगा रखी ! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. fool petty न ही रहें तो बेहतर..बकौल रचना जी..:)

      Delete
  8. आपके आगमन का सदैव इंतजार रहता है हाँ आपको लम्बे समय तक ब्लॉग परिवार से अलग पाना बुरा लगता है . आपका स्वागत

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये आपका बड़प्पन है भईया, जो आपने इतना मान दिया...
      व्यस्तता कुछ अधिक है इनदिनों, लेकिन आपलोगों का ध्यान हमेशा रहता है...
      आपका धन्यवाद..

      Delete

  9. बिना इजाज़त इस ब्लॉग से कुछ भी कापी करना मना है अगर आप ऐसा करते हैं तो आप कॉपीराईट कानून का उलन्घन करते हैं, और फिर हम जिम्मेवार नहीं होंगे.


    aur khud ye likh kar chipakaa rakhaa hai....

    :)
    :)
    :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. मनु जी,
      सच बात तो ये है कि मुझे सचमुच नहीं मालूम थ कि वो फोटो कॉपीराईट का पंगा करेगा...क्योंकि ऐसा कुछ लिखा हुआ नहीं था...
      जहाँ तक मेरे ब्लॉग के कोपीराईट का सवाल है..तो इसके लिए हम एक बार फिर से कह दे रहे हैं...

      'बिना इजाज़त इस ब्लॉग से कुछ भी कापी करना मना है अगर आप ऐसा करते हैं तो आप कॉपीराईट कानून का उलन्घन करते हैं, और फिर हम जिम्मेवार नहीं होंगे.'

      Delete
  10. कुछ भी हो, बिलोग की बैक ग्राऊंड में फूल-पत्ती थी शानदार :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. fool aur petty jitni jalid hataa diyae jaaye behtar hotaa haen
      kyun ada , sahii kehaa naa maenae

      Delete
    2. fool petty हटाओ आन्दोलन में ही लगे हैं रचना जी :)
      आपकी बात सोलह आने सही है..

      Delete
    3. संजय जी,
      आपकी जले पर नमक छिडकने की अदा के का कहने...
      हम पहले भी कह चुके हैं सबै दिन होत नहीं एक समाना...
      देखते हैं बकरे के बाबूजी कब तक ख़ैर मनाएंगे..:)
      आउर तब.......:)
      हाँ नहीं तो..!

      Delete
  11. लौट के ब्लॉगर ब्लॉग पे आये- बधाई!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बुझा तो ऐसे रहा है जैसे कह रहे हैं आप...लौट के बुड़बक घर को आए :)
      हाँ नहीं तो..!!

      Delete
  12. लौट के ब्लॉगर ब्लॉग पे आये- बधाई!

    ReplyDelete
    Replies
    1. एक बार बोलके मन नहीं भरा का फ़ुरसतिया जी...:)
      ले लिये हैं बधाई टोकरा भर के ..:)

      Delete
  13. अंत भला तो सब भला ... हमने तो इसीलिये न कभी ब्लॉग पर दिया बाती लगाया न फूल पाती

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनुराग जी,
      अभी कहाँ अंत है..कौन जाने कल और का लोचा होवे !
      अब हम फूल-पत्ती तो नहीं लेकिन अपना बिलाग को धूप-बत्ती रोज़ देखा रहे हैं कि ब्लॉग देवता परकत ही रहना :)

      Delete
  14. चलो पराए फूल-पत्ते झड गए, पतझड के बाद मौसम और भी खुशगवार होता है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने सुज्ञ जी,
      पराये फूल-पत्ते तो गए तेल लेने...
      लेकिन मौसम कौन सा अपना है, आज खुशगवार तो कल बुख़ार...:)

      Delete
  15. .

    आदरणीया अदा जी
    प्रिय अदा जी

    शुक्र है … आपका ब्लॉग वापस आ गया …
    वरना हम गाते ही रहते -
    आ लौट के आजा मेरे मीत , तुझे मेरे गीत बुलाते हैं

    अब रिटर्न ऑफ़ काव्य मञ्जूषा में कौनो शक़्क़ नाहिं रहा तो बिलॉग काव्य मञ्जूषा क लगना भी तो चाहिए …
    हम आए हैं और बिना आपका गाना सुने खाली हाथ लौट रहे हैं …
    बहुत बेइंसाफ़ी है … … …

    अगली बार ? पक्का ना ?!
    ठीक है जात हैं अब ही तो …
    जै रामजी की !!

    शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैंने अपनी ब्लॉग लाइफ में ऐसा पहली बार देखा है .... खैर... अंत भला तो सब भला ..वेलकम बेक

      मुझे लगा था आपने ब्लॉग को प्राइवेट कर दिया है

      Delete
  16. अदा जी, नमस्कार. आपकी ही तरह कई और ब्लॉगर साथी भी कॉपीराइट की 'online applicability' से अनभिज्ञ हैं. मैं कुछ जानकारी अपने ब्लॉग पर देना चाहती हूँ, और उदाहरणार्थ इस घटना को अपने पाठकों को बताना चाहती हूँ. अतः मैं आपसे आपकी इस ब्लॉगपोस्ट को 'mention' करने की, यानि इसके नाम और कड़ी का उल्लेख करने की अनुमति चाहती हूँ. यदि आप ना चाहें तो मैं इस घटना का 'बेनामी ज़िक्र' ही करूँगी :)

    ReplyDelete