Saturday, September 28, 2013

जिउतिया और मेरे बच्चे :)

इनदिनों भारत में हूँ और बच्चे या तो अमेरिका में या कनाडा में।  

जिउतिया का त्यौहार है और मुझे मेरे बच्चे बहुत याद आ रहे हैं। 


जिउतिया का व्रत सिर्फ पुत्रों के लिए किया जाए, ऐसा मैं नहीं मानती। यह व्रत अपने बच्चों (पुत्रों-पुत्रियों) के दीर्घायु होने की कामना करती हुई हर माँ करती है, मेरा ऐसा मानना है।  


आज-कल बहुत कम ऐसा अवसर मिलता है जब हमारा पूरा परिवार साथ हो, १५ दिन पहले ऐसा ही एक सुअवसर कनाडा में प्राप्त हुआ, बस फिर क्या था तसवीरें खिंच गयीं :)

आप सभी को जिउतिया की असीम शुभकामनाएँ !!!







21 comments:

  1. choye miyan chote miyan...............bare miyan subh:an:la


    pranam.

    ReplyDelete
  2. दीदी
    वन्दन
    आज आपने सबसे मिला दिया
    आभार

    ReplyDelete
  3. वाह एक सुखद अनुभव... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. सुंदर तस्वीरें ....शुभकामनयें आपको भी

    ReplyDelete
  5. बढ़िया आदरणीया-
    आभार आपका-
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (22-09-2013) के चर्चामंच - 1383 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  7. अतिसुन्दर / मनोहारी / नयनाभिराम :)

    एक अतिरिक्त फोटोग्राफर का जुगाड़ कर के पाँचों स्वजनों की एकजाई फोटो खींचते तो और भी अच्छा लगता !

    ReplyDelete
    Replies
    1. अली साहब,
      पूरे परिवार की फोटो लगा दी है।

      Delete
    2. हां यही तो कह रहे थे हम :)

      Delete
  8. हा हा हा, प्रसन्न परिवार देख आनन्द ही आ जाता है।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर तस्वीरें!
    केवल लडकों के लिए कोई त्योहार होना भी नहीं चाहिए।इस त्योहार का नाम पहली बार सुना है।क्या इसे ही अहोई अष्टमी भी कहा जाता है?

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुझे जहाँ तक लगता है, जिउतिया और अहोई अष्टमी एक ही पर्व के दो नाम हैं ।

      Delete
  10. कोई भी पर्व हो उसकी भावना बहुत उदात्त होती है

    ReplyDelete
  11. सुन्‍दर, शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  12. लेकिन पता नहीं माँ भूखी क्यूँ रहती है.... :(

    ReplyDelete
  13. बड़ी प्यारी तस्वीरें हैं। .पर इसके लिए संतोष जी को एक बिग थैंक्यू, वे ये आइडिया नहीं रखते तो तुम आलस करती ही रह जाती। हँसता-मुस्कुराता-गुनगुनाता परिवार बस ऐसा ही बना रहे. चश्मेबद्दूर।

    ReplyDelete
  14. मेरा मन कर रहा है की मैं भी अपने परिवार के साथ ऐसी ही फोटोज खिचवा लूँ :-) बहुत सुन्दर

    प्रणाम

    ReplyDelete
  15. वाह! शुभकामनायें!

    ReplyDelete