Sunday, January 30, 2011

दीवाना हुआ बादल.......एक गीत ..


चित्रपट : कश्मीर की कली
संगीतकार : ओ. पी. नय्यर
गीतकार : एस. एच.बिहारी
गायक : रफ़ी,आशा भोसले


रफ़ी: ओ हो हो, ओ हो हो, आ हा हा
mmmm, ये देखके दिल झूमा, ली प्यार ने अंगड़ाई
दीवाना हुआ बादल
सावन की घटा छाई
ये देखके दिल झूमा, ली प्यार ने अंगड़ाई
दीवाना हुआ बादल

ऐसी तो मेरी तक़दीर न थी
तुमसा जो कोई महबूब मिले
(दिल आज खुशी से पागल है) \- २
(ऐ जानेवफ़ा तुम खूब मिले) \- २
दिल क्यूँ ना बने पागल, क्या तुमने अदा पाई
ये देखके दिल झूमा, ली प्यार ने अंगड़ाई
दीवाना हुआ बादल

आशा: जब तुमसे नज़र टकराई सनम
जज़बात का एक तूफ़ान उठा
(तिनके की तरह मैं बह निकली) \- २
(सैलाब मेरे रोके न रुका) \- २
जीवन में मची हलचल
और बजने लगी शहनाई
ये देखके दिल झूमा, ली प्यार ने अंगड़ाई
दीवाना हुआ बादल

है आज नये अरमानों से, आबाद मेरी दिल की नगरी
(बरसों से खिंजां का मौसम था) \- २
(वीरान बड़ी दुनिया थी मेरी) \- २
हाथों में तेरा आँचल, आया जो बहार आई
ये देखके दिल झूमा, ली प्यार ने अंगड़ाई

आशा: दीवाना हुआ बादल, सावन कि घटा छाई
ये देखके दिल झूमा, ली प्यार ने अंगड़ाई
रफ़ी: दीवाना हुआ बादल, सावन की घटा छाई
ये देखके दिल झूमा, ली प्यार ने अंगड़ाई,
दीवाना हुआ बादल

आवाज़ संतोष शैल और स्वप्न मञ्जूषा शैल 'अदा'





17 comments:

  1. बहुत ही अच्छा लगा गीत. रविवार की सुबह मजेदार हो गयी.शुक्रिया

    ReplyDelete
  2. वाह एक सदाबहार गीत....

    ReplyDelete
  3. सुबह सुबह ये गाना सुनाने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. वाह , मेरा पसंदीदा गीत ।
    जब भी सुनता हूँ , दिल झूम जाता है ।
    बहुत अच्छा गया है, आप दोनों ने ।

    ReplyDelete
  5. ये तो मेरी भी पसंद का गाना है जी :)

    ReplyDelete
  6. पुरुष स्वर किसका है? भाव भरा है। आपका तो स्वर सदा की तरह।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर बोल ....गाया भी मधुर है जी ...दिल खुश हुआ...

    ReplyDelete
  8. यह सुन के दिल झूमा.....

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर गीत प्रस्तुत किया है आपने अदा जी!

    ReplyDelete
  10. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (31/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब रहा सब। ऊपर फ़ूल और नीचे फ़ूलों की सी आवाज, ये गाना वैसे भी बहुत पसंद रहा है। शुक्रिया कहना तो बनता ही है, आभार स्वीकार कीजिये।

    ReplyDelete
  12. पाण्डेय जी,
    पुरुष स्वर एक पुरुष का ही है...नाम संतोष शैल..हमरे रिश्तेदार ही हैं...:)

    ReplyDelete